फेसबुक मार्केटिंग (Facebook Marketing) इसके फायदे और मुख्य चुनौतियां

Facebook marketing
Written By Editor
Digital Marketing | 3 Min Read

Social media marketing (Facebook, Instagram, Linkedin इत्यादि ) businesses के लिए हमेशा ही बहुत beneficial होता है चाहे वह छोटा business हो या बड़ा. 2004 में अपने launch के बाद से FB को लोगों ने बहुत positively embrace किया है. और यह बात बहुत से businesses को Facebook marketing के through अपने vast proportion of customers को attract करने की opportunity देती है. मगर Facebook ads के multiple advantages के साथ कई सारे challenges भी होते हैं. आज हम यहां उन्ही FB marketing के advantages और challenges के बारे में जानेंगे.

फेसबुक मार्केटिंग के फायदे  (Advantages of Facebook Marketing)

Facebook-marketing advantages

 The number of users on Facebook, especially in India is very high:

(FB पर number of users, especially India में काफी ज्यादा है)

Undoubtedly, FB 2.41 billion user account के साथ social media में सबसे बड़ा player है. और इनमे से 241 million तो सिर्फ India से ही है, जो हमे इसका largest user base बनाता है. यह platform आपको pages, groups, और ads के form में marketing के लिए multiple platforms देता है. इन सबमें से FB page एक individual या एक business को represent करने का एक most popular तरीका है.

Average time spent on Facebook is high:

(लोगों का फेसबुक पर average time spent high होता है)

One of the major advantages of FB है की आज के time पर 80% internet users इसे use करते है. यहां तक कि 65% of 65+ years adults भी. 80% teens भी सुबह उठते ही सबसे पहले अपना FB feed check करते हैं. और 96% users इसे mobile पर access करते हैं. अब इन सभी information के कारण आप जानते हैं कि आपकी maximum audience mobile users है तो आप अपने content को उसी according curate कर सकते हैं और उस तरह आपका आपके customers के attention को gain करने का chances भी काफी बढ़ जाएगा.

Extremely useful in increasing brand awareness and educating new customers:

(Brand Awareness increase करना और new customers को educate करने के लिए extremely useful होता है)

 Facebook ads आपके brand awareness को significantly build करेगा. ये एक बहुत ही अच्छा तरीका होता है लोगों को यह बताने का कि आपके पास offer करने को क्या है. लोग जितना ही ज्यादा आपके brand से familiar होंगे उतने ही ज्यादा chances हैं कि decision लेने के वक्त वह आपके product purchase करेंगे. Facebook advertising आपके customer attribution में भी बहुत help करती है. और यह बहुत जरूरी भी है क्योंकि जितनी बार आपके business के साथ आपकी audience interact करेगी, उनके convert होने की chances भी उतना ही ज्यादा बढ़ेंगे.

Can be used for engaging and targeting potential customers:

(इसे potential customers को target और engage करने के लिए use किया जा सकता है)

Facebook ads के पास एक unique facility होती है जो आपको demographics और interest के basis पर potential customers को target करना allow करती है. यह आपको उन customer को भी फिर से target करने के लिए enable करती है जिन्होंने पहले आपके site को visit किया था, ताकि आप अपने target audience को effectively narrow कर सकें. Facebook advertising आपके website traffic को boost कर सकता है और ये कई मायनों में बाकी sources से ज्यादा beneficial है.

Advertisement on FB is highly targeted, cheap and fast, and results are easily measurable:

(फेसबुक पर advertisement highly targeted, cheap और fast होते हैं और इनके results भी easily measurable होते हैं)

Facebook advertising एक most targeted form of advertising है. आप लोगों में age, interest, behavior और location के basis पर अपने business को advertise कर सकते हैं. इसके साथ साथ Facebook advertising काफी fast होती है, और यह immediate results drive करती है. आप एक ही दिन में एक साथ thousands लोगों तक reach कर सकते हैं, जिसकी वजह से यह one of the cheapest form of advertisement भी है.

क्या आपको भी Facebook Marketing में interest है ? तो enroll कीजिये हमारे Facebook Marketing Course में और पाईये 90% तक की Scholarship.

Challenges Faced in फेसबुक Marketing

Challenges Faced in Facebook Marketing

Technological requirement/skill requirement (Facebook marketing can be very complicated):

एक Facebook marketing challenge जो कई business persons को frustrate करता है वह है lack of technological know-how में gap. ऐसे कई CEOs हैं जिन्होंने अपना career और business major technological challenges आने से काफी पहले ही start किया था जिसके कारण उन्हें इसके बारे में सही knowledge नहीं है या कई ऐसे हैं जिनमें technological knowledge की कमी है. ऐसे में जब वह अपने colleagues, industry के उनके friends या/और analyst report को consult करते हैं तो उन्हें different sources से varied response और mostly incomplete knowledge ही मिलती है.

Still, many people are not on FB or are not very active on it:

(अभी भी बहुत से ऐसे लोग हैं जो या तो फेसबुक पर है ही नहीं या फिर वह इस पर ज्यादा active नहीं रहते हैं)

You know it’s a fact की दुनिया की around half population FB पर present ही नहीं है. India में भी यह number approx 1 billion लोग हैं. कई लोग हैं जिनको इस पर account बनाने के बाद अपने profile को update रखना पसंद नहीं, कई सारे ऐसे भी हैं जिनके लिए इस पर account बनाना ही necessary नहीं लगता. इन सबके अलावा world की एक significant proportion है जिनके पास अभी तक internet कि facility नहीं पहुंच सकी है. इन सब बातों के कारण हो सकता है आपके B2B marketing और sales campaign को Facebook marketing benefit ना करे.

Creation of goals and strategy:

(Goals और strategy create करना)

Goals और strategy यह तय करती है कि आप अपने brand को अपने लिए सही audience को product showcase करने की opportunity दें. ये जरूर हो सकता है कि आपको पता हो की आप क्या और क्यों accomplish करना चाहते हैं, मगर बिना किसी strategy के आपके पास कोई specific plan या कहें roadmap के बिना आपका आपके goals को achieve करना बेहद मुश्किल हो जाता है.

Creating regular and diversified content:

(Regular और diversified content create करना)

Facebook marketing में content एक बहुत ही important role play करता है. इससे फर्क नहीं पड़ता है कि आप किस तरह का ad format choose करते हैं, मगर marketing के लिए content बहुत ही essential है. यह text-based, visual or audio भी हो सकता है मगर जरूरी यह है कि आपको regular और diversified होना चाहिए. और इससे भी ज्यादा जरूरी है आपके content को आपकी brand values और Facebook marketing goals के साथ inlined होना चाहिए. अगर आपके पास content नहीं है तो आपके पास इस पर amplify करने को कुछ भी नहीं है और लोग आपके sales message और special offers से बहुत जल्दी ही tired हो जाएंगे.

Gaining customer attention:

(Customers का attention gain करना)

FB पर कई different type के post होते है. कुछ ऐसे होते है जो audience को annoy कर सकते है, और कुछ होते है जो उन्हें engage कर सकते है. कुछ तो हो सकता है audience तक पहुंचे भी नहीं क्योंकि इसने अपने news feed में बहुत से changes लाए है. और इतना ही नहीं, FB पर thousands of brands है जो users के attention के लिए compete कर रहे है. इसकी वजह से बहुत noise create होता है जिसकी वजह से आपके business का stand out कर पाना और भी मुश्किल हो जाता है चाहे आपका content आपके audience कि feed में organically appear हो रहा हो या paid capacity में.

यहाँ हमने आपको FB के फायदों(advantages) के साथ ही उनसे जुडी चुनौतियों (challenges) के बारे में भी बताया। लेकिन एक बात तो साफ़ है की Facebook Marketing के लिए बेहद जरूरी है और ख़ास कर के छोटे व्यवसाय(small businesses) के लिए । ये इन small businesses को बड़े Brands से मुकाबला कर अपनी Market बनाने का मौका देता है।

जैसा की एक मशहूर entrepreneur Amy Jo Martin ने कहा है

Social media is the ultimate equalizer. It gives a voice and a platform to anyone willing to engage. “

 

About the Author

Subhe eLearning is an online library of video training courses, teaching new-age skills to Indian youth in Indian native Languages. It is one of the fastest-growing vernacular e-learning companies in India.

Top 7 Facebook Ads Marketing Objectives For Your Business in Hindi

Facebook Organic Reach क्या है? और इसे कैसे बढ़ाया (Increase) जाए ?

A Beginner’s Guide to Search Engine Optimization (SEO)

Top 7 Facebook Ads Marketing Objectives For Your Business in Hindi

Facebook Organic Reach क्या है? और इसे कैसे बढ़ाया (Increase) जाए ?

A Beginner’s Guide to Search Engine Optimization (SEO)