फ़ोटोशॉप में एडिटिंग कैसे करे? 10 फोटो-एडिटिंग टेक्नीकेस, जिसने मेरे फोटोग्राफी बदल दी।

Eye Edited Using Photoshop
Written By Author
Designing & Creativity | 1 Min Read

Photoshop क्या हैं?

आज के डिजिटल दौर में आप एक फोटोग्राफर के रूप में फोटोशॉप से परिचित होना चाहेंगेAdobe Photoshop Logo।  साथ ही इसके बारे में ज्यादा-से-ज्यादा  जानकारी हासिल करने की उम्मीद करते हैं। हालांकि इसके पीछे फोटोशॉप से फोटोग्राफी को नुकसान पहुंचाने के बारे में कुछ तर्क दिए जा सकते हैं कि यह कितना सही और, कितना गलत है। लेकिन मैं फोटोशॉप को एक टूल के रूप में देखता हूं। यह ठीक उसी तरह कार्य करता है, जिस तरह से डार्करूम में तस्वीर को डेवलप करने और ब्रोमाइड पेपर पर प्रिंट करते समय लाईट मैनेजमेंट कर तस्वीर के साथ हेरफेर किया जाता है।

मैंने यहां 10 टेक्नीक की एक सूची को एक साथ रखा है, जिससे मुझे अपनी इमेज को बेहतर बनाने में मदद मिलती है।

जैसे-जैसे मेरा फोटोग्राफिक स्किल बढ़ता गया, वैसे-वैसे बेहतर इमेजे की उत्सुकता बढ़ती चली गई। मैंने जितना फोटोग्राफरों को देखा, उतनी ही अधिक उनकी तस्वीरों का भी स्टडी किया, जो सीधे कैमरे से नहीं ली गई थीं। आज फोटोग्राफिक के क्षेत्र में पोस्ट प्रोसेसिंग एक बड़ी भूमिका निभाता है। चाहे उसमें फाइनेस का उपयोग किया गया हो, या किसी तरह का कम्बिनेशन किया गया हो। यह निश्चित तौर पर एक महत्वपूर्ण स्किल है। पिछले कुछ सालों में फोटोग्राफरों ने मुझे बिट्स और टुकड़ों के प्रयोग के माध्यम से जो कुछ दिखाया, उससे मैंने एक वर्कफ्लो बनाया। जिसका मैं अपने पोस्ट-प्रोसेसिंग के लिए उपयोग करता हूं। वैसे यह फोटोशाॅप के लिए शुरूआती गाइड नहीं है, बल्कि यह सूचि मेरे वर्कफ्लो का एक क्रम है।

कैसे करे फोटोशॉप में editing

1. अधूरे यानी रॉ इमेज को मिलाना

यह मेरी एडिटिंग की नींव है। जिस तरह आप बगैर ठोसे नींव के एक घर नहीं बना सकते, उसी तरह से इसके बिना किसी एक तस्वीर को एडिट नहीं कर सकते हैं। यह कैमरे में राॅ यानी अपरिपक्व  होता है, जहां इमेज को फोटोशॉप में एडिट करने के लिए सेट किया जाता है। जब भी मैं खींची हुई ‘रॉ इमेज’ को कैमरा में खोलता हूं तब सबसे पहले जरूरत के मुताबिक उसके कलर टेम्परेचर या एक्सपोजर को एडजस्ट करता हूं। और फिर हाइलाइट्स स्लाइडर को -30 से -80 के बीच सेट करने के बाद +30 से +80 के बीच शैडो स्लाइडर को सेट करता हूं। क्योंकि मैं चाहता हूं कि मेरी हाइलाइट्स थोड़ी डल और शैडो काफी फ्लैट हो, जो करीब-करीब मेरे मिडटोन जैसी टोन रेंज में हो। इस तरह से यह इमेज को काफी फ्लैटेंस करता है, जिससे इमेजेज बहुत ही बोरिंग और बदसूरत दिखेंगी। मैं चाहता हूं कि फोटोशाॅप में जाने पर इमेज बिल्कुल फ्लैट हो। मैं सभी इमेज को इसलिए फ्लैट करता हूं, क्योंकि जब मैं इसे फोटोशाॅप में खोलूं तो मेरे द्वारा उपयोग की जोने वाली सभी टोनिंग और टेक्नीक से कांट्रास्ट की  सही मात्रा उपयोग में आ पाए। यदि इमेज में बहुत अधिक नेचुरल कंट्रास्ट है, तो फोटोशाॅप में जाने मेरी टेक्नीक्स इमेज को बर्बाद कर देंगी और इसके विपरीत बहुत अधिक कंट्रास्ट बन जाए।

2 . हीलिंग ब्रश का उपयोग करना

Image result for healing brush in photoshop

मुझे स्पॉट हीलिंग ब्रश के बजाय हीलिंग ब्रश पसंद है, क्योंकि मैं खुद के सोर्स पॉइंट्स चुनना पसंद करता हूं। मैं स्किन के पिंपल्स, दूसरी विसंगतियां या फिर बैकग्राउंड पर किस अन्य तरह की डिस्ट्रैक्शन या कहें गड़बड़ी को दूर करने के लिए हीलिंग ब्रश का उपयोग करूंगा। मैं इसका उपयोग लैंडस्केप या खेल के शॉट्स पर भी करता हूं। मैं ऐसा कर  इसके साथ किसी भी तरह की छोटी-मोटी गड़बड़ी से छुटकार पा लेता हूं। इससे बैकग्राउंड पर ध्यानभंग करने वाले डिस्ट्रैक्शन से आश्चर्यजनक तौर पर काफी हद तक छुटकारा मिल जाता है। यहां विस्तार से ध्यान देना महत्वपूर्ण है।

3. हल्का और गहरा करने के लिए क्लोन स्टैम्प का उपयोग करना

 

Image result for clone stamp tool in photoshop

मैं इमेज को हल्का करने के लिए अक्सर क्लोन स्टैंप का उपयोग करूंगा। इसका उपयोग मैं बैकग्राउंड और कभी-कभी स्किन पर भी करूंगा। अब हर किसी के क्रेजी होने से पहले मैं ओपेसिटी का लगभग 15 प्रतिशत ही उपयोग करता हूं। मैं इनका इस्तेमाल उन क्षेत्रों के लिए करता हूं,जिनमें पहले से बहुत अधिक डिटेल नहीं होता है। मैं सामान्य तौर पर सिर्फ नेचुरल लाइट शाट्स के साथ इसका उपयोग करता हूं, क्योंकि उनमें बहुत डिटेल नहीं मिल पाता है। मैं ऐसा तभी करूंगा जब मुझे फ्रिक्वेंसी सेपेशन के उपयोग करने का समय नहीं मिलेगा। यह स्काई या वैसे पैटर्न को मिलाने में बहुत मददगार होता है, जिनमें बहुत अधिक डिटेल नहीं मिल पाता है।

यदि आप Photoshop अच्छे से सीखना चाहते है तो  हमारे Industry experts द्वारा बनाया   Photoshop Course in Hindi जरूर देखें .

4. डौज और बसीखें र्न

मुझे डौज और बर्निंग बहुत पसंद है। मैं अपनी पसंद के अनुसार प्रकाश को थोड़ा और आकार देता हूं। डौज और बर्न के कई तरीके हैं। कम से कम नुकसान को ध्यान में रखते हुए मैं ब्राइटर एक्सपोजर और डार्कर एक्सपोजर को सेट करने लिए एक कर्व एडजस्मेंट लेयर का उपयोग करूंगा। फिर लेयर मास्क और ब्रश का उपयोग करते हुए सही प्रयोग को ध्यान में रखकर डौज ओर बर्न करूंगा।

कभी-कभी मैं फोटोशाॅप में वास्तविक डौज और बर्न टूल का भी इस्तेमाल करूंगा। मुझे यह इसलिए पसंद है, क्योंकि इसकी मदद से मैं शैडोज,मिडटोन्स या हाइलाइट्स इफेक्ट को सेट कर सकता हूं। कई चीजों में डौजिंग और बर्निंग को ध्यान में रखना पसंद है। मैं अपने सब्जेक्ट को पॉप बनाने की कोशिश करता हूं। स्किन के टोन या इमेज के दूसरे हिस्सों को भी हटाने का भी प्रयास रहता है कि इमेज के एक साइड को अक्सर हल्का या डार्क कर दूं। मेरी यह भी कोशिश रहती है कि अपनी कुछ इमेज में डार्क से लाइट तक की डेप्थ की समझ पैदा कर दूं। मैं इमेज के कट्रास्ट की तैयारियों के सिलसिले में शैडो के एक टुकड़े को डौज भी देता हूं।

 

5. फ्रिक्वेंसी सेपरेशन

यह एक बेहतरीन टेक्नीक है, जिसके उपयोग से स्किन को स्मूथ किया जाता है।  इसका उपयोग काफी संयम और संतुलन के साथ किया जाता है। मैंने भी कपड़े, आसमान, बैकड्राप्स या कहीं और की चीजों के लिए कुछ अलग करने की जरूरत के मुताबिक फ्रिक्वेंसी सेपरेशन का उपयोग किया है।

6. ब्लैक एंड व्हाइट लेयर को  सॉफ्ट लाइट में बदलना

यह मेरी पसंद की इस पोस्ट प्रोसेसिंग ट्रिक में गजब की टेक्नीक है, जिसे एक दोस्त ने मुझे दिखाया था और मैं इसका उपयाग करीब-करीब सभी इमेज के लिए कर चुका हूं। पहले मैं ब्लैक एंड व्हाइट लेयर खोलता हूं, और फिर ब्लेंडिंग मोड को साफ्ट लाइट में बदल देता हूं। इससे इमेज संभवतः काफी कंट्रास्ट दिखेगी। इस कारण मैं इसकी ओपेसिटी को 20-60 प्रतिशत तक कम कर देता हूं। मुझे शार्प कमर्शियल लुक पसंद है, जो इस इफेक्ट से मिल जाता है। यही नहीं मैं इससे ब्लैक एंड व्हाइट लेयर पर स्लाइडर के साथ प्रत्येक कलर की चमक को कंट्रोल कर सकता हूं। जैसे कि लाल और पीले रंग को एडजस्ट कर  सुंदर त्वचा का टोन प्राप्त किया जा सकता है।

7. कलर संतुलन, लेबल और ह्यू (रंग)/सेचुरेशन (शुद्धता) के एडजस्टमेंट लेयर की टोनिंग के उपयोग

Image result for hue saturation photoshop

ब्लैक एंड व्हाइट एडजस्टमेंट लेयर के उपयोग के बाद मैं अपनी इमेज को टोन करने के लिए तीन एडजस्टमेंट लेयर का इस्तेमाल करता हूं। मैंने उन्हें एक विशिष्ट क्रम में सेट कर दिया है, ताकि मेरी पसंद का लुक मुझे मिल सके। इनमें पहले कलर बैलेंस एजजस्टमेंट लेयर खुलेगा। सामान्य तौर पर मैं शैडो के लिए कुछ ब्लू, स्यान या मैजेंटा और मिडटोन्स के लिए रेड, ग्रीन या यलो, तथा रेड या यलो हाइलाइट्स के लिए शामिल करूंगा। इनसे सामान्यतः रंगों की वास्तविकता बनी रहेगी, लेकिन यह वैसी जगह है जहां आप अच्छा लगने लायक मनपसंद प्रयोग कर सकते हैं।

इसके बाद मैं एक लेवल्स एडजस्टमेंट लेयर को शामिल करूंगा। इसके साथ आउटपुट स्लाइडर का उपयोग करते हुए अपनी शैडो के ऊपर ब्लू और ग्रीन रंग जोड़ दूंगा। अब चुंकी शैडो में लेवल्स को रंगों के साथ ऊपर में भरा गया है, जो शैडो को एक फिल्म का लुक देता है। फिर मैं अपने रंगों को ठीक करने के लिए ह्यू/सेचुरेशन का उपयोग करूंगा। यह वैसी जगह है, जहां मुझे एडिटिंग के साथ सबसे अधिक अच्छा लगता है। मुझे इमेज को अलग-अलग लुक देने के लिए विभिन्न टोन के साथ प्रयोग करना   पसंद है।

8. कर्व्स के साथ क्रशिंग हाइलाइट्स

मैं कव्र्स एडजस्टमेंट लेयर के साथ कुछ कंट्रास्ट को शामिल करूंगा। मेरे पास आमतौर पर कई बिंदुओं के साथ एक छोटा सा कव्र्स होता है। मुझे व्यक्तिगत तौर पर अपनी हाइलाइट्स को क्रश करना पसंद है। यह तब होता है जब आप शीर्ष बिंदु को दाईं ओर थोड़ा नीचे लाते हैं, और फिर इसके समीप एक दूसरा बिंदु जोड़ते हैं। ये हाइलाइट्स के टोनल रेंज को कम करता है। कभी-कभी इमेज को कुछ अजीब रंग में बदल जाएगा। इसलिए मैं हर किसी के साथ ऐसा नहीं करता हूं।

9. लेयर मास्क का उपयोग करना

मैं लेयर मास्क सीखने के लिए इसके महत्व को लेकर अतिरिक्त तनाव में नहीं रहता हूं। टोनिंग या एडिटिंग के समय मैं नहीं चाहता कि इमेज का प्रभाव हमेशा ग्लोबल ही हो। मैं अक्सर लेयर मास्क का उपयोग कर इमेज के विभिन्न हिस्सों को टोन, डौज और बर्न करूंगा या फिर उसकी एडिटिंग कर दूंगा। उदाहरण के लिए मैं हमेशा ह्यू/सिचुएशन एडजस्टमेंट लेयर के साथ लेयर मास्क उपयोग करता हूं। मैं ऐसा इसलिए करता हूं,क्योंकि हाथ, पैर, कान आदि के रंग भिन्न होते हैं। मैं शरीर के एक निश्चित हिस्से पर ह्यू/सिचुएशन के रंग को बदल दूंगा, और तब मेरे चाहने के अनुरूप इमेज प्रभावशाली बन जाएगा।  मैं कभी-कभी सब्जेक्ट के बैकग्राउंड को भी अलग ढंग से टोन कर दूंगा। यहां याद रखें- सफेदा दिखाया जाने वाला और काला छिपाने का रंग है।

10. विभिन्न ब्लेंडिंग मोड का उपयोग करना

फोटोशॉप के इसे क्षेत्र को आमतौर पर अनदेखा किया जाता है। ब्लैक एंड व्हाइट लेयर को सॉफ्ट लाइट ब्लेंडिंग मोड में बदलने के अलावा मैं कभी-कभी अपने कव्र्स लेयर को ल्यूमिनोसिटी में बदल देता हूं। ऐसा कर आप इमेज के कंट्रास्ट और सेचुरेशन को प्रभावित करने के बजाय इसके कंट्रास्ट को तब प्रभावित कर देते हैं, जब यह सामान्य सेट पर होता है।

मैं एक खाली लेयर ओपन करूंगा, कलर को ब्लेंडिंग मोड पर सेट करूंगा, बहुत कम ओपेसिटी (5-15 प्रतिशत) पर एक ब्रश का उपयोग करूंगा और यहां तक कि सैंपल के रूप में स्किन या कपड़े के रंग को पसंद करूंगा। फोटोशॉप के लिए 26 विभिन्न किस्म के ब्लेंडिंग मोड हैं। उन्हें आजमाएं,उपयोग करें और रचनात्मक बनें।

जानिए क्या है Photoshop के उपयोग के फायदे और एनरोल कीजिये हमारे Free Photoshop course in Hindi में |

 

 

फोटोग्राफर्स के लिए 10 बेस्ट photoshop plugins in 2020

अपने फोटोग्राफी के स्किल को करिअर कैसे बनाएं? (Build a Career in Photography)

फोटोशॉप क्या है? इसके उपयोग करने के फायदे

फोटोग्राफर्स के लिए 10 बेस्ट photoshop plugins in 2020

अपने फोटोग्राफी के स्किल को करिअर कैसे बनाएं? (Build a Career in Photography)

फोटोशॉप क्या है? इसके उपयोग करने के फायदे